शीर्षक: क्वार्कएक्सप्रेस अपडेट में सम्पूर्ण इंडिक भाषा सपोर्ट को शामिल किया गया

टैगलाइन: क्वार्कएक्सप्रेस दिसम्बर अपडेट

167

15 जनवरी 2018 – क्वार्क सॉफ्टवेयर ने आज क्वार्कएक्सप्रेस 2018 के लिए दिसम्बर अपडेट जारी किया। इस अपडेट के साथ, क्वार्कएक्सप्रेस 2018 ने सम्पूर्ण इंडिक भाषा टाइपोग्राफी को सपोर्ट देने के लिए नये फीचर्स को शामिल किया है। ग्राफिक डिजाइन और पेज लेआउट सॉफ्टवेयर में वैश्विक अग्रणी होने के नाते क्वार्क, पूरी इंडिक भाषा सपोर्ट की ज़रूरत को समझता है, जिसे अब क्वार्कएक्सप्रेस 2018 में मुफ्त अपडेट के रूप में शामिल किया गया है। वर्तमान ग्राहकों को सपोर्ट देने के अलावा, इन नए फीचर्स के साथ क्वार्क को नए ग्राहकों को आकर्षित करने की पूरी उम्मीद है। इंडिक सपोर्ट के महत्त्व के बारे में रमेश येला, सीनियर प्रोडक्ट मैनेजर, क्वार्कएक्सप्रेस ने बताया कि, “हम दुनिया भर में, और इसके साथ भारत में भी एक रूझान देख रहे हैं, जहां ग्राहक क्वार्कएक्सप्रेस के लिए लगातार हमारे सबस्क्रिप्शन रहितलाइसेंसिंग मॉडल को पसंद कर रहे हैं। हमारे साझेदारों 4सी प्लस, क्लेविस टेक्नोलॉजीस, मॉडुलर इन्फोटेक और समिट के साथ मिलकर हम अब पूरे इंडिक भाषा सपोर्ट के साथ भारतीय बाज़ार को अधिक बेहतर तरीके से सेवाएं देने के लिए तत्पर हैं।” “हमारे साझेदार भी प्रोफेशनल ओपेन टाइप फांट्‌स और अतिरिक्त सॉफ्टवेयर और सेवाएं पेश कर रहे हैं जिन्हें भारत में प्रकाशित किए जाने की आवश्यकता है, जिससे ग्राहकों को क्वार्कएक्सप्रेस से और अधिक लाभ हासिल करने में मदद मिलेगी।”

दिसम्बर अपडेट क्या है? भारत में ग्राहकों को लोकप्रिय इंडिक भाषाओं में प्रकाशित करने में मदद करने के लिए अब क्वार्कएक्सप्रेस 2018 को अपडेटेड यूनिकोड लाइब्रेरीज के साथ एकीकृत और पूरा इंडिक यूनिकोड फांट्‌स सपोर्ट दिया गया है। क्वार्कएक्सप्रेस 2018 में भारतीय भाषाओं के लिए कीबोर्ड इनपुट विधियों हेतु नेटिव ओएस फीचर्स शामिल हैं। यह इंडिक आर्थोग्राफिक सिलेबल बाउंड्रीज के अनुसार कैरेक्टरों का विश्लेषण व पुन: व्यवस्थित करने, संयोजन निर्माण और ग्लिफ पोजीशनिंग में भी सपोर्ट करता है; 11 भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करने वाला हनस्पेल हाइफेनेशन स्पेल चेकिंग और हाइफेनेशन विधियों की सुविधा देत है; कीबोर्ड के माध्यम से टेक्स्ट इनपुट; कॉपी और पेस्ट तथा डायरेक्ट इम्पोर्ट, तथा और भी बहुत कुछ सपोर्ट करता है। मुख्य विशेषताएं निम्न हैं:

इंडिक टेक्स्ट और टाइपोग्राफी सपोर्ट: क्वार्क ने अब क्वार्कएक्सप्रेस में कोर टेक्स्ट और टाइपोग्राफी फीचर्स शामिल करके भारतीय प्रकाशकों को, यूनिकोड फांट्‌स सपोर्ट के साथ विभिन्न भाषाओं में दस्तावेज तैयार करने व प्रकाशित करने की सुविधा दी है।

इंडिक यूनिकोड फांट्‌स के लिए सपोर्ट: कीबोर्ड मैपिंग तथा अन्य भाषा फीचर्स को सपोर्ट करने के लिए विशेष एक्सटेंशन उपयोग करने की ज़रूरत के बिना, यूजर अब इंडिक यूनिकोड फांट्‌स को किन्हीं अन्य फांट्‌स (लैटिन स्क्रिप्ट वाले फांट्‌स) की तरह फांट वेंडरों से प्राप्त कर सकते हैं।

इंडिक फांट्‌स के साथ डिजिटल पब्लिशिंग: नेटिव यूनिकोड फांट्‌स सपोर्ट के साथ अब यूजर क्वार्कएक्सप्रेस में डिजिटल लेआउट क्षमताओं के साथ HTML में पब्लिश कर सकते हैं। डिजिटल फार्मेट में ईबुक्स,, HTML5 पब्लिकेशंस और एप स्टूडियो एप्स शामिल हैं।

क्वार्कएक्सप्रेस के ग्राहक हर्ष चौधरी, निदेशक, दैनिक नवज्योति, जयपुर, ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि, “हमारे डिजाइनर, क्वार्कएक्सप्रेस 2018 को इसकी उच्च परफार्मेंस और उपयोग में आसान यूजर इंटरफेस (UI) के कारण कई वर्षों से लगातार पसंद करते रहे हैं। नेटिव इंडिक सपोर्ट एक बहुत अच्छा कदम है, क्योंकि हम इस सपोर्ट के लिए कई वर्षों से प्रतीक्षा कर रहे थे। हाइफेनेशन सपोर्ट के अलावा, स्पेलचेकिंग एक अतिरिक्त फायदा है। हम इंडिक भाषाओं में नेटिव HTML5 एक्सपोर्ट क्षमताओं का लाभ उठाने के लिए तैयार हैं। क्वार्कएक्सप्रेस का स्थायी लाइसेंसिंग मॉडल, हमें यह चुनने का अवसर देता है कि कब अपग्रेड करना है, और यह हमें सबस्क्रिप्शन के दायरे में नहीं बांधता, जहाँ हम बिना किसी अतिरिक्त मूल्य के भुगतान करते हैं।

क्वार्कएक्सप्रेस 2018 इंडिक सपोर्ट की विशेषताएं एक नज़र में:

नवीनतम यूनिकोड और ICU लाइब्रेरीज के साथ एकीकरण; भारतीय भाषाओं के लिए इंडिक भाषा सपोर्ट जैसे: हिन्दी, मराठी, तमिल, बंगाली, तेलुगू, ओड़िया, मलयालम, कन्नड़, पंजाबी, असमी और गुजराती; विंडोज और मैकओएस प्लेटफार्मों द्वारा दी जाने वाली इनपुट कीबोर्ड विधियों (IMEs) के साथ एकीकरण;

इंडिक टेक्स्ट टाइपिंग के लिए सपोर्ट, इम्पोर्ट, एक्सपोर्ट, कॉपी और पेस्ट; इंडिक फांट्‌स द्वारा दिया जाने वाला ओपेनटाइप फीचर्स सपोर्ट; इंडिक भाषाओं के लिए स्पेलचेक; इंडिक भाषाओं के लिए हाइफेनेशन; सिलेबल आधारित ड्रॉप कैप्स सपोर्ट; यूनिचर आधारित इंडिक टेक्स्ट डिलेशन; इंडिक भाषाओं के लिए फाइंड/चेंज सपोर्ट;

इंडिक भाषाओं के लिए संवर्धित ग्लिफ पैलेट सपोर्ट; फांट ग्रुपिंग का एकीकरण, फांट फॉलबैक, इंडिक फांट्‌स के लिए लैंग्वेज लॉकिंग; इंडिक टेक्स्ट के लिए शून्य चौड़ाई वाली ज्वॉइनर और शून्य चौड़ाई वाली नॉनज्वॉइनर सपोर्ट; और, सिलेबल आधारित कर्निंग/ट्रैकिंग सपोर्ट। इस दिसम्बर के अपडेट में मौजूदा यूजर के लिए क्वार्कएक्सप्रेस 2018 में मुफ्त इंडिक सपोर्ट क्वार्कएक्सप्रेस 2018 के मैक और विंडोज संस्करणों के लिए शामिल है और यह क्वार्कएक्सप्रेस 2018 के सभी वर्तमान उपयोक्ताओं के लिए मुफ्त है। इसे क्वार्कएक्सप्रेस में बिल्टइन ऑटो अपडेटर का उपयोग करके, डाउनलोड किया जा सकता है या यहां: http://www.quark.com/Support/Downloads/ से डाउनलोड किया जा सकता है।

प्रतिस्पर्धी सॉफ्टवेयर यूजर के लिए विशेष ऑफर: 50% की बचत करें

इनडिजाइन, कोरलड्रॉ, माइक्रोसॉफ्ट पब्लिशर और फोटोशॉप यूजर ध्यान दें: कोई भी जिसके पास क्वार्कएक्सप्रेस का प्रतियोगी सॉफ्टवेयर है, वह एकदम नया और अपग्रेड करने योग्य क्वार्कएक्सप्रेस 2018 लाइसेंस रू 52,000 के बजाय केवल रू. 25,000 में खरीद सकता है, जिससे सामान्य कीमत पर उसे रू. 27,000 की बचत का लाभ मिलेगा। प्रतिस्पर्धी अपग्रेड खरीदने वाले ग्राहकों को भी वर्तमान फांट बंडल प्रोमो के भाग के रूप में फ्री फांटस्मिथ टाइपफेस प्राप्त होगा। प्रतिस्पर्धी अपग्रेड ऑफर के बारे में अधिक जानकारी के लिए:

क्वार्कएक्सप्रेस 2018 क्वार्क स्टोर, हमारी क्वार्क टेलीसेल्स टीम से, या हमारे किसी अधिकृत रिसेलर्स से खरीदने के लिए उपलब्ध है। क्वार्कएक्सप्रेस के बारे में: क्वार्कएक्सप्रेस ग्राफिक डिजाइन और पेज लेआउट सॉफ्टवेयर है जिसे दुनिया भर में लाखों ऐसे लोग उपयोग कर रहे हैं जो प्रिंट और डिजिटल उत्पादों के अपने दैनिक उत्पादन कार्य में गुणवत्ता और परफार्मेंस को महत्त्व देते हैं। अद्वितीय इनोवेटिव फीचर्स के साथ 64-बिट आर्किटेक्चर पर निर्मित क्वार्कएक्सप्रेस इस समय बाज़ार में सबसे आधुनिक और दक्ष डिजाइन सॉफ्टवेयर के रूप में प्रतियोगिता में सबसे आगे है।

The Covid-19 pandemic led to the country-wide lockdown on 25 March 2020. It will be two years tomorrow as I write this. What have we learned in this time? Maybe the meaning of resilience since small companies like us have had to rely on our resources and the forbearance of our employees as we have struggled to produce our trade platforms.

The print and packaging industries have been fortunate, although the commercial printing industry is still to recover. We have learned more about the digital transformation that affects commercial printing and packaging. Ultimately digital will help print grow in a country where we are still far behind in our paper and print consumption and where digital is a leapfrog technology that will only increase the demand for print in the foreseeable future.

Web analytics show that we now have readership in North America and Europe amongst the 90 countries where our five platforms reach. Our traffic which more than doubled in 2020, has at times gone up by another 50% in 2021. And advertising which had fallen to pieces in 2020 and 2021, has started its return since January 2022.

As the economy approaches real growth with unevenness and shortages a given, we are looking forward to the PrintPack India exhibition in Greater Noida. We are again appointed to produce the Show Daily on all five days of the show from 26 to 30 May 2022.

It is the right time to support our high-impact reporting and authoritative and technical information with some of the best correspondents in the industry. Readers can power Indian Printer and Publisher’s balanced industry journalism and help sustain us by subscribing.

– Naresh Khanna

Subscribe Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here